HomeFAQ Blogsजानिए पैरा कमांडो कौन होते है ,कैसे बने,हाइट,सैलरी,गन, शैक्षिक योग्यता, के बारे...

जानिए पैरा कमांडो कौन होते है ,कैसे बने,हाइट,सैलरी,गन, शैक्षिक योग्यता, के बारे में

आज के समय बहुत लोगो का एक सवाल रहता कि पैरा कमांडो कौन होते है और पैरा कमांडो कैसे बनते हैं उनकी हाइट कितनी होती है इसी के साथ पैरा कमांडो की ट्रेनिंग कितने दिन की होती है वो कोनसी गन उपयोग करते है और उनकी शैक्षिक योग्यता क्या होती है तो इन सभी सवालों का जबाब आपको इस ब्लॉग में मिलेगा बस आपको करना है एक काम कि इस ब्लॉग को एक बार पूरा पड़ना है | तो आइये शुरू करते है इस ब्लॉग को-:

पैरा कमांडो कौन होते है || para commando kon hote hai

तो आइये जानते है इस सवाल (पैरा कमांडो कौन होते है) का सही जबाब -:
पैरा कमांडो, जिन्हें आधिकारिक तौर पर पैरा (विशेष बल) के रूप में जाना जाता है, भारतीय सेना की एक विशेष बल इकाई हैं। वे आतंकवाद-रोधी, सीधी कार्रवाई, विशेष टोही और खुफिया जानकारी एकत्र करने सहित विभिन्न अपरंपरागत युद्ध संचालन करने में अत्यधिक प्रशिक्षित और विशेषज्ञ हैं। उनके नाम में “पैरा” शब्द “पैराशूट” से लिया गया है, क्योंकि इन कमांडो को हवाई संचालन में बड़े पैमाने पर प्रशिक्षित किया जाता है।

पैरा कमांडो के बारे में मुख्य बातें:

गठन: पैरा कमांडो का गठन आधिकारिक तौर पर 1966 में किया गया था, और तब से वे भारत में सबसे विशिष्ट और कुशल विशेष बल इकाइयों में से एक बन गए हैं।

प्रशिक्षण: पैरा कमांडो को कठोर और कठिन प्रशिक्षण से गुजरना पड़ता है, जिसमें हवाई प्रशिक्षण, लड़ाकू गोताखोरी, उत्तरजीविता प्रशिक्षण और अपरंपरागत युद्ध के विभिन्न पहलुओं में विशेष पाठ्यक्रम शामिल हैं। प्रशिक्षण उन्हें विभिन्न इलाकों और परिदृश्यों में विभिन्न प्रकार के मिशनों के लिए तैयार करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

मिशन: पैरा कमांडो को अक्सर भारत के भीतर और अंतरराष्ट्रीय शांति मिशनों में उच्च जोखिम वाले अभियानों में तैनात किया जाता है। वे कारगिल युद्ध, आतंकवाद विरोधी अभियानों और अन्य विशेष अभियानों सहित विभिन्न संघर्षों में सक्रिय रूप से शामिल रहे हैं।

उपकरण: पैरा कमांडो अपने मिशन को प्रभावी ढंग से पूरा करने के लिए आधुनिक हथियार, संचार प्रणाली और विशेष गियर से लैस हैं।

गोपनीयता: अपने ऑपरेशन की प्रकृति के कारण, पैरा कमांडो अक्सर उच्च स्तर की गोपनीयता के साथ काम करते हैं। उनके प्रशिक्षण और मिशन में परिचालन सुरक्षा बनाए रखने के लिए वर्गीकृत जानकारी शामिल होती है।

पैरा कमांडो भारत के रक्षा बलों का एक अभिन्न अंग हैं और विभिन्न प्रकार की सुरक्षा चुनौतियों का जवाब देने के लिए देश की क्षमता को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उनकी विशेषज्ञता और कौशल उन्हें पारंपरिक और अपरंपरागत युद्ध दोनों में एक दुर्जेय शक्ति बनाते हैं।

पैरा कमांडो कैसे बनते हैं

पैरा कमांडो कौन होते है
पैरा कमांडो कौन होते है

तो आइये जानते है इस सवाल (पैरा कमांडो कैसे बनते हैं) का सही जबाब -:

पैरा कमांडो बनने के लिए दो तरीके से सिलेक्शन किया जाता है – पहला है डायरेकट रिक्रूटमेंट के तहत और दूसरा भारतीय सेना से. डायरेक्ट रिक्रूटमेंट के तहत रैली का आयोजन करके भर्ती की जाती है. इसके बाद सेलेक्ट हुए जवानों को ट्रेनिंग के लिए आर्मी रैली पैरा कमांडो ट्रेनिंग सेंट बैंगलोर भेज दिया जाता है. जहां कठिन ट्रेनिंग दी जाती है.

पैरा कमांडो बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है

तो आइये जानते है इस सवाल (पैरा कमांडो बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है) का सही जबाब -:
पैरा कमांडो ऑफिसर (Para Commando Officer) बनने के दो तरीके हैं. एक तो सीधी भर्ती (सेना की रैलियों में भाग लेना) और दूसरा, भारतीय सेना का हिस्सा बनकर पैरा कमांडो ऑफिसर बनने के लिए उम्मीदवारों को एक फिजिकल फिटनेस टेस्ट और लिखित परीक्षा भी पास करनी होती है.

पैरा कमांडो हाइट

तो आइये जानते है इस सवाल (पैरा कमांडो हाइट) का सही जबाब -:
पैरा कमांडो बनने के लिए आवेदन करने के लिए आयु मानदंड 18-23 वर्ष के बीच है। उम्मीदवार की न्यूनतम ऊंचाई 157 सेमी यानी आर्मी और नेवी में 5.1 फीट और एयरफोर्स में 162.5 सेमी होनी चाहिए।

पैरा कमांडो की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है?


तो आइये जानते है इस सवाल (पैरा कमांडो की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है) का सही जबाब -:
पैरा कमांडो की सैलरी 75,000 से लेकर 1.5 लाख रुपए प्रति महीने तक होती है। औसत वेतन प्रतिमाह लगभग डेढ़ लाख रुपए मिलता है। इसके अलावा इन्हें कई तरह की सुविधाएं और भत्ते भी दिए जाते हैं। बता दें कि सेना में कम से कम 10 साल काम करने के बाद कमांडो की ट्रेनिंग में भाग लिया जा सकता है।

पैरा कमांडो की ट्रेनिंग कितने दिन की होती है?

पैरा कमांडो कौन होते है
पैरा कमांडो कौन होते है

तो आइये जानते है इस सवाल (पैरा कमांडो की ट्रेनिंग कितने दिन की होती है) का सही जबाब -:
पैरा कमांडो बनने के लिए ट्रेनिंग 3 महीने तक चलती है. इस दौरान उन्हें शारीरिक और मानसिक रूप से बेहद कठिन दौर से गुजरना पड़ता है.

पैरा कमांडो को कांच क्यों खिलाया जाता है?


तो आइये जानते है इस सवाल (पैरा कमांडो को कांच क्यों खिलाया जाता है) का सही जबाब -:
पैरा एसएफ कमांडोज जब 90 दिन की अपनी कठिन ट्रेनिंग पूरी कर लेते हैं तो आम इंसान नहीं रह जाते हैं. यही अहसास दिलाने के लिए उन्हें कांच खिलाया जाता है.

पैरा कमांडो कितने प्रकार के होते हैं?

पैरा कमांडो कौन होते है
पैरा कमांडो कौन होते है

तो आइये जानते है इस सवाल (पैरा कमांडो कितने प्रकार के होते हैं) का सही जबाब -:
पैरा कमांडो को स्पेशल ऑपरेशन्स, डायरेक्ट एक्शन, होस्टेज प्रॉब्लम, एंटी टेररिस्ट ऑपरेशन्स, अनकन्वेंशनल अटैक्स, स्पेशल सैनिक प्रशिक्षण, आदि जैसे सबसे मुश्किल काम को अंजाम देते हैं। पैरा कमांडो की तरह नेवी के पास भी MARCOS और एयर फाॅर्स के पास गरुड़ कमांडो होते हैं।

निष्कर्ष-:

मै आशा करता हु कि आपको पैरा कमांडो कौन होते है और पैरा कमांडो कैसे बनते हैं उनकी हाइट कितनी होती है इसी के साथ पैरा कमांडो की ट्रेनिंग कितने दिन की होती है वो कोनसी गन उपयोग करते है और उनकी शैक्षिक योग्यता क्या होती है इन सभी सवालो का जबाब आपको बिलकुल मिल ही गया होगया | अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो हमारे इस ब्लॉग को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे धन्यवाद |

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

नमस्कार दोस्तों, मैं Yatish Thakur एक Professional Blogger और Youtuber हूँ और साथ ही इस ब्लॉग का Author हूँ | मैं आपके पास समय समय से नए नए विषयों पर ब्लॉग लाता रहूँगा और आपको नई नई जानकारी शेयर करता रहूँगा |

Kerela Me Ghumne Ki 10 Jagah | केरल में घूमने की जगह

Kerela Me Ghumne Ki 10 Jagah | केरल में घूमने की जगह केरल, जिसे अक्सर "ईश्वर का अपना देश" कहा जाता है, भारत के दक्षिण-पश्चिमी...

Hyderabad Me Ghumne Ki 10 Jagah | हैदराबाद में घूमने की जगह

Hyderabad Me Ghumne Ki 10 Jagah | हैदराबाद में घूमने की जगह हैदराबाद, भारतीय राज्य तेलंगाना की राजधानी, एक जीवंत महानगर है जो अपने समृद्ध...

सर्दी में हार्ट पेशेंट वाले लोगो को आ सकता है डबल हार्ट अटैक इस तरह रखें दिल का ख्याल

Heart Health Tips In Hindi: ठंडे मौसम के कारण धमनियाँ और नसें सिकुड़ने लगती हैं और इसलिए हृदय संबंधी समस्याएं बढ़ जाती हैं। ठंड...

Valentine Day Trip Ideas In Hindi: वैलेंटाइन डे पर घूमने के लिए बेस्ट जगह कौन सी हैं

Valentine Day Trip Ideas In Hindi: बहुत से लोगों को यात्रा करना पसंद होता है। चाहे अकेले हों या दोस्तों के साथ, सही स्थान...

Homemade Face Pack For Glowing Skin In Hindi: घर की इन चीजों से बनाएं फेस पैक, त्वचा खिलने लगेगी

Homemade Face Pack For Glowing Skin In Hindi: जब फेस मास्क की बात आती है, तो ऐसे कई घरेलू उपचार हैं जो प्रभावी साबित...

Early Signs of kidney disease in humans: आपकी किडनी ख़राब है और आप जानते तक नहीं है ये 5 मामूली लक्षण

Early Signs of kidney disease in humans: पेट में दर्द, पेशाब का रंग बदलना, पेशाब में खून आना, सूजन जैसे कई लक्षण होते हैं।...

Skydiving Tips in hindi: पहली बार Skydiving करने से पहले गलती से भी न भूले इन टिप्स को

अगर आप अपनी जिंदगी से प्यार करते हैं और पहली बार स्काईडाइव करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको इन महत्वपूर्ण सुझावों का...

Subah Jaldi Uthne Ke Fayde : ये गजब के फायदे, जानिए

Subah Jaldi Uthne Ke Fayde :किसी व्यक्ति के दैनिक जीवन या जीवनशैली को प्रभावित करने वाली हर चीज़ को कई तरीकों से समझाया जाता...

Cancer Prevention Tips In Hindi : WHO की इन बातों को मान लेंगे तो नहीं होगा Cancer

Cancer Prevention Tips In Hindi : कैंसर प्लेग की तरह फैलने लगा है, दुनिया जितनी तेजी से आगे बढ़ रही है उससे कहीं ज्यादा...